South

The Shore-temple, Mahabalipuram

महाबलीपुरम का ‘कला-ऐतिहासिक’ महत्व

चेन्नई से 60 km दूर स्थित है महाबलीपुरम, जिसे माम्मलपुरम के नाम से भी जाना जाता है. चेन्नई से पॉन्डिचेरी जाते वक्त यह रास्ते में पड़ता है. बंगलोर और चेन्नई […]

Gajasurchamradhari Shiv

गजासुरचामृधारी शिव और कला दर्शन-विवेचन, Gajantak Form of Shiva

भारत के प्राचीन मंदिरों में शिल्प शास्त्र और वास्तु शास्त्र दोनों का ही नियमपूर्वक पालन किया गया है. वास्तुशास्त्र जहाँ भवन निर्माण के नियम को रेखांकित करता है, जिसमे मंदिर, […]

लेपाक्षी, हैदराबाद

सुनो नंदी!

दक्षिण में पाँव पाँव पर प्रभु अपने साकार रूप में विराजमान है. कहीं भी निकल पड़िए, श्लोक उच्चारण, मंदिर की घंटी, नाद के स्वर, हाथों में पूजन सामग्री और मुख […]